Poem on Village in Hindi | गांव पर कविता

Poem on Village in Hindi

मेरा गांव मुझको बहुत याद आता है
बार बार आकर सपनों में सताता है

कच्चे घर को जब माँ गोबर से लिपति थी
पड़ जाते थे पांव तब म बहुत डांटती थी
मगर डांट सुनकर भी में बहुत हँसता था
खुलकर माँ को खूब चिढ़ाया करता था
सचमुच वो बचपन आज भी मुझे बहुत लुभाता है
मेरा गाँव मुझको बहुत याद आता है ……

कुएं के पास वो आम, आम से लगी डाली
जिस पर रहती थी पिता की निगाह सवाली
मगर चुपके -चुपके जब आम को चुराता था
पता चलने पर फिर पिता की मार खाता था
यह सब कुछ मुझे कितना आनंद देता है
मेरा गाँव मुझको बहुत याद आता है….

होती थी चैपाल पर जब रंगों की बौछार
तब रहता था उसमें कितना आपसी प्यार
लोगों के संग संग में भी खाता था फाग
चाहे गले से निकले बेसुरा राग।
वह फागुन तो मुझे आज भी रुलाता है
मेरा गाँव मुझको बहुत याद आता है …..

खेलता था कबड्डी सांस टूट जाती थी
गुरूजी की सीटी आउट की बज जाती थी
कबड्डी कबड्डी फिर भी करता रहता है
खेल के नियमों को भंग किया करता था
अब भी गुरूजी का डंडा नज़र आता है
मेरा गाँव मुझको बहुत याद आता है …..

(लेखक – रमेश मनोहरा )

Default image
Azstudy Team
Azstudy.in is a Hindi study website for the School, College, as well graduates preparing for various exams. Azstudy.in Team provides top quality Hindi study content on various Hindi Topics like Essay, Poems, Quotes, Govt exam related material in Hindi.
Articles: 37